Skip to main content
Scripbox Logo

आजकल आप बच्चों के कॉलेज की बढ़ती फीस के खर्चे कैसे उठा सकते हैं?

भविष्य की योजना के लिए कार्य करना चाहते हैं तो शुरूआत आज से ही करनी पड़ती है। भारत में किसी भी प्राइवेट कॉलेज की फ़ीस 8 से 15 लाख रुपए तक होती है और ऐसे में अगर पोस्ट ग्रेजुएशन तक पढ़ा जाए तो खर्चा लगभग 25 लाख तक पहुंच जाता है।

अपने बच्चे को अच्छी शिक्षा देना हर माता-पिता का सपना होता है। हालांकि आजकल प्री प्राइमरी से लेकर यूनिवर्सिटी तक हर जगह शिक्षा पर खर्च बढ़ चुका है। फिर भी इन सब के बीच माता-पिता बच्चों के प्री प्राइमरी और प्राइमरी एजुकेशन के खर्चे तो अपनी सैलरी और रेगुलर आने वाली आमदनी से निकाल ही लेते हैं।

पर जैसे-जैसे बात उच्च शिक्षा की आती है तो हालात बुरे होने लगते हैं। सरकारी संस्थानों में कट ऑफ लिस्ट काफी ज्यादा रहती है तो बहुत से बच्चों को प्राइवेट कॉलेज की तरफ रुख करना पड़ता है। पर जैसा कि हम जानते हैं प्राइवेट संस्थानों की फ़ीस अचानक से भर देना संभव नहीं है। इनके लिए अगर पहले से ही तैयारी की जाए तो चीजें सरल हो जाती हैं।

भविष्य की योजना के लिए कार्य करना चाहते हैं तो आज से ही शुरू करना पड़ता है। भारत में किसी भी प्राइवेट कॉलेज की फ़ीस 8 से 15 लाख रुपए तक होती है और ऐसे में अगर पोस्ट ग्रेजुएशन तक पढ़ा जाए तो खर्चा लगभग 25 लाख तक पहुंच जाता है।

वार्षिक शिक्षा लागत में 12% वृद्धि के लिए लेखांकन के बाद, उच्च शिक्षा पर लगभग 14 लाख का खर्चा है। ऐसे में अगर आप हर साल 4.5 लाख रुपए जमा करते हैं तो आपका उच्च शिक्षा के लिए आसानी से बचत कर सकते हैं। 

आप यह फाइनेंसियल लक्ष्य कैसे पा सकते हैं? अगर आपके पास पर्याप्त समय है तो आप एक सही निवेश प्लान शुरू कर सकते हैं या इक्विटी फण्ड में एस.आई.पी की शुरूआत कर सकते हैं इसके लिए आपको हर महीने एक इक्विटी म्यूचुअल फंड में नियमित रूप से निवेश करने की आवश्यकता होगी, और अगले कुछ सालों में आप निर्धारित की गयी राशि तक पहुंच जाएंगें।

जब आपको धन की आवश्यकता होती है तो आप पैसे की सुरक्षा के लिए उसे ऋण कोष में स्थानांतरित करें। मासिक एसआईपी राशि ऐसी होनी चाहिए कि आपका इक्विटी निवेश बढ़कर स्वयं को लक्षित राशि तक पहुंचा पाए।

5 साल के अंत में 14 लाख रुपये के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए, आपको इक्विटी डायवर्सिफाइड फंड में 18,000 रुपये मासिक एस.आई.पी से शुरूआत करनी होगी।

यदि आपके पास पढ़ाई के लिए राशि जमा करने के लिए 5 वर्ष से कम का समय है, तो 50-50 इक्विटी और ऋण आवंटन का विकल्प चुनें, उसी समय इक्विटी में जो भी एकमुश्त निवेश कर सकते हैं, उसे शुरू कर दें।

याद रखें, इक्विटी निवेश को परिपक्व होने के लिए समय चाहिए। कम समय में बाज़ार की अस्थिरता रिटर्न पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इसलिए जितना जल्दी आप निवेश शुरू करेंगें उतना ही जल्दी आपको रिटर्न मिलना शुरू हो जाएगा इसलिए, जितनी जल्दी आप अपने अपेक्षित रिटर्न को प्राप्त करने की संभावना को उच्चतर करते हैं। साथ ही जल्दी शुरूआत का मतलब है , हर महीने कम निवेश करना।

इस लक्ष्य के लिए सबसे सही पूँजी है कि आप जल्द से जल्द निवेश निवेश करना शुरू करें, इस तरह से उच्च शिक्षा का खर्चा आने पर आपको किसी भी तरह की टेंशन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

Achieve all your financial goals with Scripbox. Start Now