Skip to main content
Scripbox Logo

4 लक्षण जो बताते हैं कि आपके खर्च आमदनी से ज्यादा हैं

अगर आप वैसी जिंदगी जी रहे हैं जो आपकी आमदनी के मुकाबले महंगी है तो जाहिर है कि आप आने वाले समय में वित्तीय मुसीबत में पड़ सकते हैं। ये व 4 संकेत हैं जो बताते हैं कि आप इस तरह की मुसीबत में पड़ रहे हैं।

आपमें से कई लोग नेटफ्लिक्स के नार्कोस शो के बड़े फैन होंगे. खासतौर पर पहले दो सीजन तो लोगों के दिलों के बहुत करीब हैं। जैसा कि इतिहास गवाह है की  पाब्लो एस्कोबार कोई बहुत अच्छा नागरिक नहीं था। जिन नापाक हरकतों के जरिए उसने अरबों रुपये कमाए वह तरीका बिल्कुल सही नहीं था। साथ ही जिस तरह की आलीशान जिंदगी वह सीरियल में जीता है उसे  देखकर बहुत लोगों को ऐसा लगता है की काश उनके पास भी इत्ने पैसे होते । आखिर कौन नहीं चाहेगा प्राइवेट रेसट्रेक या पसंदीदा जगह पर पार्टी करना ? भारी दौलत लुभाने वाली होती है। 

अगर आप अमीर बनना चाहते हैं तो उसके दो तरीके हैं I एक  कि आप अपनी आमदनी तेजी से बढ़ाएं और उन चीजों में पैसा लगाएं जो आपकी आमदनी में इजाफा कर सकें। दूसरा तरीक़ा है की आप  अपनी सैलरी से ज्यादा से ज्यादा पैसा लंबे समय तक बचाएं। इन दोनों तरीकों से आपकी कमाई में तेजी से इजाफा होगा और आपके खर्चे आपको कम मालूम होंगे। वैसे एक रास्ता खासा दिलचस्प नजर आता है और दूसरा थोड़ा  बोरिंग लगता है।

लेकिन जितने भी स्पोर्ट्स स्टार्स, म्यूजिशियन, क्राइम लॉर्ड्स या मूवी स्टार्स हैं, उनकी जीवनशैली बताती है कि आपको अपनी जीवनशैली वैसी ही बनानी चाहिए जितना खर्च आप वहन कर सकें। ये मायने नहीं रखता है कि आप अपने दोस्तों से कम या ज्यादा कमाते हैं। अगर आप वैसी जिंदगी जी रहे हैं जो आपकी आमदनी के मुकाबले महंगी है तो जाहिर है कि आप आने वाले समय में वित्तीय मुसीबत में पड़ सकते हैं। ये व 4 संकेत हैं जो बताते हैं कि आप इस तरह की मुसीबत में पड़ रहे हैं।  

1. जब आप जरूरी खर्चे के लिए पर्याप्त रकम ना जुटा पा रहे हों, खासतौर पर तब जब कर्ज की रकम आपकी महीने की सैलरी के 50 फीसदी हो ।

अगर आप ठीक ठाक कमा रहे हैं और फिर भी आपको उधार लेना पड़ रहा है, तो समझ जाइए कि आप मुश्किल में पड़ चुके हैं। इसे जांचने का सबसे बढ़िया तरीका ये है कि जो चीज आपको खरीदनी है उसे खरीदने के लिए क्या आप लोन या क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल किए बगैर 50 फीसदी पैसा दे सकते हैं ? अगर आप मेट्रो शहरों में रह रहे हैं ऐसे में मुमकिन है कि आपकी आमदनी औसतन भारतीयों से ज्यादा होगी। लेकिन इसके बावजूद ज्यादा किराए और आने जाने की खर्च की वजह से आपके खर्चे बढ़ जाते हैं। इस तरह से आपको अंत में उधार पर निर्भर रहना होता है।

2. जब हर महीने आपके पास पैसे कम बच रहे हों, और आप साल में बस तीन महीने या उससे कम महीनों में पैसे बचा पाते हैं 

अगर हर महीने जरूरी खर्चों के बाद बचने वाली रकम कम हो रही है, बजाय उतनी ही रहने के या बढ़ने के तो ये बताता है कि आप जरूरत से ज्यादा खर्च कर रहे हैं। सही नियम ये है कि आप अपनी आमदनी का 30 फीसदी खर्च करें। इस तरह से आप 70 फीसदी बचा पाएंगे।

अगर आप इतना या कम से कम 20 फीसदी पिछले 3 महीनों से नहीं बचा पा रहे हैं, तो ये बढ़िया रहेगा कि आप अपने खर्चों पर गौर करें। ये जरूरी नहीं है कि आप अपने मजे वाले खर्चों को नियंत्रित करें। बल्कि ज्यादा जरूरी ये है कि आप अपनी वित्तीय सुरक्षा और सिक्योरिटी से समझौता ना करें। अगर आपका क्रेडिट कार्ड का बिल बढ़ रहा है तो ये बताता है कि जितने आपके खर्चे हैं आपकी आमदनी उतनी नहीं है। इसलिए आपको क्रेडिट कार्ड से खर्चा करना पड़ रहा है।

3. जब आपका क्रेडिट कार्ड बिल अपनी सीमा पार कर जाय 

अगर आपका क्रेडिट कार्ड का बिल बढ़ रहा है तो ये बताता है कि आपका खर्च आपकी आमदनी से कहीं ज्यादा है जिसकी वजह से आपको क्रेडिट कार्ड से ज्यादा खर्च करना पड़ रहा है। जाहिर है कि आप उन लोगों में से एक हैं जो हर खर्च क्रेडिट कार्ड के जरिए करते हैं और फिर महीने के अंत में एक मुश्त रकम चुकाते हैं। वैसे इसमें कोई समस्या नहीं है लेकिन अगर आप पाते हैं कि आपकी आमदनी के मुकाबले आपका क्रेडिट कार्ड बिल ज्यादा है तो ये समय है कि आप अपने खर्चों पर ध्यान दें।

4. जब आपका कर्ज आपकी सैलरी के 50 फीसदी से ज्यादा हो

अगर आप अपनी सैलरी का 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सा किश्त के तौर पर चुका रहे हैं तो आप समस्या में हैं। जाहिर है कि ये लोन आपने अपने घर के लिए लिया है लेकिन अगर आपके पास अच्छा इमरजेंसी फंड नहीं है तो समझ लीजिए कि आप बर्फ की नदी पर चल रहे हैं. चूंकि, बर्फ पतली है ऐसे में बर्फ टूट सकती है और आप नदी में समा सकते हैं। ऐसे में सही ये है कि आप अपने इमरजेंसी फंड की तुरंत व्यवस्था करें। 

खतरों से बचने का सबसे अच्छा तरीका ये है कि इन संकेतों को पहचानें और जरूरी फैसले लें। ये फैसले रुपये-पैसों के साथ ही जिंदगी को कैसे जिया जाए, उसको लेकर लेना जरूरी है। 

Achieve all your financial goals with Scripbox. Start Now